ऑनलाईन शोपिंग में मिल रहा है नकली सामान (Online Shopping Fraud)

ऑनलाईन शोपिंग में मिल रहा है नकली सामान (Online Shopping Fraud)

इकोनॉमिक टाइम्स के दो सर्वेक्षणों के मुताबिक भारत में लगभग हर तीसरे ऑनलाईन ग्राहक को मिल रहा है नकली सामान। सर्वेक्षणों की मानें तो स्नैपडील नकली और पुराने सामान को बेचने के मामले में सबसे आगे है। उसके बाद अमेज़न और अंत में आती है फ़्लिपकार्ट। जहां तक रिपौर्टों कि माने तो एक तिहाई ग्राहकों को नकली सामान बेचा जाता है। मगर यह तादाद ज्यादा भी हो सकती है क्योंकि कई ग्राहकों को असली व नकली की कोई पहचान नहीं होती। जिसके कारण वह नहीं बता पाते कि उन्हें नकली सामान मिला है।

स्नैपडील है सबसे आगे

भारत एक विशाल देश है जिसमें बहुत बड़ी तादाद में विक्रेता और खरिददार हैं। समय के साथ चलने के लिए विक्रेता अपने सामान को ज्यादा से ज्यादा उपभोगताओं तक पहुंचाने की होड़ में लगे हुए हैं। जिसके चलते वह अपना सामान अपने उपभोगताओं तक जल्दी और बेहतर तरीक़ों से पहुँचाना चाहते हैं। अब वे ऑनलाईन शोपिंग का रास्ता भी अपनाने से नहीं कतराते। भारत में ऑनलाईन शोपिंग का मार्केट बहुत बड़ा व जटिल है। ऑनलाईन शोपिंग के जरिए विक्रेता दूर-दराज के उपभोगताओं को भी खरीदने का मौका देता है। जहां एक तरफ़ ऑनलाईन शोपिंग लोगों को चीजें खरीदने की आजादी देती है वहीं दूसरी ओर सर्वेक्षणों के मुताबिक 38% प्रतिशत उपभोगताओं को नकली और पुराना सामान मिल रहा है। इस सूची में स्नैपडील सबसे आगे है। रिपोर्टों की मानें तो स्नैपडील अपने 12% ग्राहकों को नकली और पुराने सामान को बेच रहा है।

और कौन-कौन है शामिल?

स्नैपडील जहां 12% प्रतिशत ग्राहकों के साथ धोखा करता हैं उसी तरह अमेजन 11% उपभोक्ताओं को नकली व बेकार सामान बेचता है। फ़्लिपकार्ट भी 6% प्रतिशत ग्राहकों के साथ धोखा करता हैं और उन्हें बेकार सामान देता है। देखा जाए तो ऐसी बहुत सी ऑनलाईन शोपिंग साइट्स हैं जो नकली और पुराना सामान बेचती हैं।

क्या हो सकते हैं कारण?

भारत एक ऐसा देश है जहां नकल का सामान बहुत ज्यादा मात्रा में बनाया जाता है। खाने के पदार्थों से लेकर टीवी तक हर चीज की नकल भारत में आसानी से मिल जाती है। देखने में वह बिलकुल असली लगता है जिसके कारण कई बार स्वयं विक्रेता को भी यह ज्ञात नहीं हो पाता कि वह जो सामान बेच रहा है वह असली है या नकली। जिसके वजह से भी यह परेशानी आती है। दुसरा कारण है पड़ोसी मुल्क चीन का बाजार। चीन विश्व बाजार में बहुत प्रबल विक्रेता है। वह कम कीमत का सामान बनाता है जो देखने कीमती लगता है। जिसके चलते लोग उसे असली ही मान लेते है। और कई बार इसका शिकार ऑनलाईन शोपिंग उपभोक़्ता हो जाते हैं।

बचाव के लिए क्या किया जा सकता है?

शिकायतों के चलते बड़ी ऑनलाईन शोपिंग साइट्स ने यह दावा किया है कि वह उन विक्रेताओं को प्रतिबन्धित कर देगीं जो नकली या पुराना सामान बेचते हैं। ऑनलाईन शोपिंग मार्केट बहुत विशाल और उपयोगी है। इसमें उपभोक्ताओं को खुश रखना प्रथम धर्म माना गया है। कोई भी नहीं चाहेगा की ऑनलाईन शोपिंग मार्केट कुछ पैसे बचाने के चक्कर में पुरी तरह विफल हो जाए। इसलिए ऑनलाईन शोपिंग साइट्स आश्वासन देतीं हैं कि ऐसी कोई भी परेशानी जल्द से जल्द सुलझाईं जाएगीं |

Comments

I am 21 years old boy from Faridabad, India. I am a freelance writer, blogger, and part-time singer.

%d bloggers like this: