Reality behind Cambridge Analytica KC Tyagi Ovleno

TejashwiYadav-Tyagi

केम्ब्रिज अनालिटिका (Cambridge Analytica) और ओवेलनो(केसी त्यागी के बेटे अमरीश त्यागी की कम्पनी ovleno.in) सिर्फ पर्सनल डेटा चुराकर अपने ट्रेड के लिये यूज़ करती तो बात उतनी बड़ी नहीं थीओवेलनो ने अपने website को निलंबित कर दिया है लेकिन वे अभी भी LinkedIn पर उपलब्ध हैं

तेजसवी यादव का  कैंब्रिज एनालिटिका (Cambridge Analytica)  पर आरोप

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री तेजसवी यादव ने जेडी (यू) के केसी त्यागी पर आरोप लगाया था कि उनके बेटे अमरीश सीए के लिए काम करते हैं, जिस पर पार्टी के वरिष्ठ नेता ने जोरदार खंडन किया था। “बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश के करीबी विश्वासपात्र और भाजपा के के.के. त्यागी के बेटे अमरीश त्यागी के साथ जेडीयू के पुनर्मिलन में एक उपकरण ने कैंब्रिज एनालिटिका (Cambridge Analytica) के लिए काम किया और बीजेपी के लिए काम करने में मदद की, जैसा कि रिपोर्ट पुष्टि करता है, नीतीश और प्रधान मंत्री मोदी का बहुत कुछ जवाब है,” यादव ने ट्वीट किया| पर सच तो है की JDU और BJP दोनों ही इनकी सेवा इस्तेमाल कर चुके हैं |

ovleno-campaign-management

पर CA अपने क्लाईंटस के लिये उस देश की सामाजिक-सांस्कृति ताने-बाने को ऐसे तोड़कर खत्म करती है जो सालों तक फिर सुधर नहीं पाता| केन्या में CA ने यही किया| ये प्रमोशन कम्पनी से ज्यादा ब्रिटेन की इंटेलिजेंस विंग मानी जाती है क्योंकि इसके क्लाईंटस राष्ट्र-विरोधी विचारधारा के होते है| नाईजीरिया (Nigeria) में इसने वोटरों को NOTA के लिये माहौल बनाया| अब भारत…

Ovleno की करतूत

Ovleno ने अलग अलग चुनाव प्रोमोट किया था| दिल्ली में चर्च में तोड़-फोड़ टाइप की घटना बनाना, इसे मीडिया में जमके प्रचार कराना, उना में दलित की हत्या, वेमूला, अखलाक को क्रियेट और कैश करना..ये सब इसी के काम|  पटेल आंदोलन, लिंगायत और अब साउथ और नॉर्थ को लड़ाने के मिशन पर है केम्ब्रिज अनलिटिका ये कहकर कि सॉउथ टैक्स देता है और नॉर्थ को उससे सब्सिडी दी जाती है|

ovleno-screenshot

केम्ब्रिज अनालिटिका (Cambridge Analytica) का जुर्म

केम्ब्रिज अनालिटिका (Cambridge Analytica) सिर्फ डेटा चोरी नहीं कर रही, कॉंग्रेस के आदेश पर भारत को तोड़ने की साजिश कर रही| केसी त्यागी के बेटे अमरीश को कॉंग्रेस से बहुत ज्यादा प्यार है| वो कॉंग्रेस के युवराज से मिलकर उनकी हेल्प करने के लिये बेताब थे| उसकी ओवेलनो कम्पनी दिल्ली-बिहार के बाद चुप है| क्यों चुप है? क्योंकि शायद इसकी शेल कम्पनी की लाइसेंस मोदी सरकार कैंसल कर चुकी है| मनीशंकरअईयर के करतूत, राहुल का चीनी विदेशमंत्रालय जाना, या अमेरिका में मोदीसरकार को गाली देना सब CA के प्लान्ड अजेंडे थे| किसी देशभक्त-ईमानदार नेता को हनिट्रैप से बर्बाद करना, रिश्वतखोरी में फंसाकर उसकी पोलिटिकल लाइफ तबाह करना सब इसकी कार्यशैली में शामिल है|

कांग्रेस और बीजेपी दोनों हैं इसमें शामिल

कॉंग्रेस ने शुरू से अंग्रेजों की “डिवाइड ऐंड रूल” विचारधारा को जीया है और केम्ब्रिज अनालिटिका कॉंग्रेस की इसी विचारधारा को अपनाते हुए बीजेपी के वोटरों को जाति-सम्प्रदाय-क्षेत्र में तोड़कर, गलत अफवाह उड़ाकर और नोटा का प्रचार कर कॉंग्रेस को सर्विस दे रही, एक बहुत बड़ी रकम और भारत की सम्प्रभुता की कीमत पर|

सवाल यह है कि क्या  बीजेपी ने ओवलिनो की तरह एक एजेंसी का इस्तेमाल किया है? 2015 के इलेक्शन के टाइम ऐसा हो सकता है की बीजेपी ने भी कुछ ऐसा किया हो। प्रशांत किशोर ने पहले मोदी और फिर लालू के लिए जो काम किये थे। क्या उन लोगों ने भी डाटा की चोरी की थी ? ओबीआई की वेबसाइट के मुताबिक, यह BJP, Congress और JDU की सबसे बड़ी भारतीय राजनीतिक दलों में से कुछ थी – जो अपने ग्राहकों के रूप में सूचीबद्ध हैं।

ovleno-owners Cambridge Analytica

वेबसाइट के launch के बाद, बीजेपी और कांग्रेस के अधिकारियों ने ओबीसी द्वारा अपने स्वयं के पार्टी के राजनीतिक अभियान की सहायता के लिए ओबीसी द्वारा उपयोग किए गए आंकड़ों के इस्तेमाल के एक-दूसरे पर आरोप लगाए हैं। अगर ओवलनो किसी भी गैरकानूनी गतिविधियों में शामिल नहीं है, तो यह सवाल उठाता है कि वेबसाइट क्यों down है और इसके मुताबिक इसके ग्राहकों को किसी भी तरह के असर के बारे में चिंतित होना चाहिए।

ovleno-about-us

हमें क्या करना चाहिए फिर?

फेसबुक ने कुछ दिन पहले डाटा लीक के बारे में काफी चर्चा की और उन्होंने माफ़ी भी मांगी। लेकिन हमारे देश के नेता सिर्फ दुसरो पे इलज़ाम लगाने में व्यस्त हैं| अब सवाल ये उठता है की जनता के वोट को manipulate करने का जो घिनौना काम Ovleno ने किया है उसके लिए क्या हम सब ऐसे ही चुप बैठे रहेंगे? अपने कमैंट्स लिखें और इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें |

जानिए कैसे हमारा मीडिया बिका हुआ है (How media is sold?)